रविवार, 7 अगस्त 2011

ध्यान---------------THE MEDITATION


शून्य

बहुत विशाल हो गया

मैं एक क्षण से

काल हो गया

नगर खो गया

शहर खो गया

दिशा खो गयी

दशा खो गयी

मेरी आत्मा

वृहत हो गयी

अंधकार का अंत हो गया

शून्य से मैं

अनंत हो गया |



चहूँ दिश

धवल प्रकाश हो गया

निशा काल का

नाश हो गया |

अंतर मेरा

शांत हो गया

मेरा लघु तन

कहीं खो गया |



ध्वनि खो गयी

सभी दिशाएँ

शान्त हो गयीं,

मधुर रागिनी

कहीं बज उठी |

ध्यान का कमल

मनस में खिला,

जल ठहर गया,

लहर ना उठी,

प्रभु की छवि

क्षणिक सी दिखी,

धरा पर जनम

सफल हो गया,

अहम खो गया

सभी पा लिया,

मेरी आत्मा को

परम मिल गया,

दोनो एक हुए

ब्रहम बन गया |



राजीव जायसवाल

१०/०९/२०१०



3 टिप्‍पणियां:

  1. वाह अब और क्या चाहिये इसके बाद्।

    जवाब देंहटाएं
  2. आज का आकर्षण बना है आपका ब्लोग है ज़ख्म पर और गर्भनाल पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा । http://redrose-vandana.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  3. आज का आकर्षण बना है आपका ब्लोग है ज़ख्म पर और गर्भनाल पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा । http://redrose-vandana.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं