रविवार, 17 जुलाई 2011

एक धरती थी हरी भरी |


एक धरती थी

हरी भरी

पेड़ों से, फूलों से

भरी, भरी |

कुदरत भी मेहरबान थी

कल कल नदी

बहती थी,

अमृत जल से भरी

रहती थी ,

धरती से, अंबर तक

शुद्ध हवा

बहती थी,

एक धरती थी

हरी भरी |



मानव

पगला गया,

हरियाली

खा गया,

नदियों को

दूषित किया,

धरती से अंबर तक

सब कुछ

प्रदूषित किया,

धरती के सीने को

चीर फाड़ डाला,

क्या क्या कर डाला,

जीना खुद अपना

मुहाल कर डाला,

एक धरती थी

हरी भरी |



राजीव जायसवाल

THIS POEM IS PRESENTED BELOW IN ROMAN SCRIPT---

Ek dharti thi, hari hari

Pedon se phulon se bhari bhari

Kudrat bhi meharban thi

Jiv jantu sabhi vidyaman the

Kal kal nadi behti thi

Amrit jal se bhari rehti thi

Dharti se ambar tak sudhh vayu bahti thi

Ek dharti thi, hari hari….



Manav pagla gaya

Hariyali kha gaya

Nadiyon ko dushit kiya

Dharti se ambar tak sab kuch pradushit kiya

Dharti ke sine ko cheer phad dala

Kya kya kar dala

Jina khud apna muhal kar dala.

Ek dharti thi , hari bhari.



RAJIV JAYASWAL

13/02/2011



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.