गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

पुनि पुनि जनमं -पुनि पुनि मरणं |


अब मन है 
मैं नव शरीर पा ऊँ ,
सुन्दर , कोमल 
बच्चा बन ,
जन्म पुनः पा ऊँ  |
नौ माहा 
फिर गर्भ में  लट कूं ,
फिर बाहर आ ऊँ ,
माता का अमृत स्नेह मिले 
फिर दुलराया जा ऊँ |

उठ गिरता 
मैं चलूँ दोबारा ,
नव अंगना  पा ऊँ ,,
खेल खिलोने मिले दोबारा
फिर से तुतला ऊँ  |

फिर से पढूं
पढाई सारी
फिर यौवन पा ऊँ
फिर से प्रेम करूँ दोबारा 
आलिंगन पा ऊँ |

नव यौवन , नव देह मिलेगी 
नव जीवन होगा ,
इस जीवन के संबंधों से 
बंध ख़तम होगा |

फिर सोचूं 
मैं तो जाऊंगा ,
प्रियों का क्या होगा
मेरी पत्नी और बच्चों का 
हाल बुरा होगा ,
मुझ बिन कैसे रह पाएँगे
क्या मेरा दुःख 
सह पाएँगे |

फिर सोचूं 
कितने जन्मों से 
देह बदलता आया 
कभी किसी घर 
कभी किसी घर
नव जीवन पाया |

मेरे ऊँ जन्मों के साथी
मुझ बिन
तरसे होंगे ,
न जाने 
कितने प्रिय जन
मुझ से बिछड़े होंगे |

पुनि  पुनि  जनमं
पुनि पुनि मरणं
जन्म मरण का आवागमनम 
कब तक यूँही चलेगा  ,
सब को छल ने वाला छलिया 
कब तक यूँही छलेगा |

राजीव
१०/१०/२०१२

पुनि पुनि जनमं 
पुनि पुनि मरणं
पुनि पुनि जननि 
जठरा शयनं 
एह संसारे बहु दुश्तारे 
त्राहि मुरारे |
-------------
शंकराचार्य 



3 टिप्‍पणियां:

  1. कविता के शब्दों का आकलन संभव नहीं है क्योंकि श्रेष्ठतम है ...मंकी बलवती इच्छा जो प्रार्थना के करीब है,,,उसके लिए जहां इश्वर सच्ची है ,,,,अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.